10th के बाद क्या करें और 10th के बाद कौन सा कोर्स करें जानें हिंदी में

  

 10th के बाद क्या करें हिंदी में जानकारी | दसवीं के बाद कौन सा सब्जेक्ट ले 

what to do after 10th class in hindi 


पढ़ाई हमारे लिए कितना जरूरी है यह तो आप को पता ही होगा । पढ़ाई करके ही आदमी इन्सान बनता है । पढ़ाई करने से ही इंसान सही और गलत का फैसला कर सकता है । आज के ज़माने में अगर सुखी जीवन जीना है तो पढ़ाई बहुत जरूरी है । 


पढ़ाई करने के साथ हमें यह भी समझना चाहिए को हमें पढ़ाई कैसे करनी चाहिए । बहुत सारे लोग 10वीं - 12वीं के बाद पढ़ना ही छोड़ देते हैं । शायद इस लिए के वह किसी और के पीछे लग कर कोई भी subjects ले लेते हैं जिनमें उनका interest भी नहीं होता । तो वह उन सब्जेक्ट से बोर होने लगते हैं और पढ़ नहीं पाते और बाद में फेल हो जाते हैं । फिर पढ़ना ही छोड़ देते हैं ।


What to do after 10th class



सबसे पहले हम यह समझते हैं कि 10th के बाद कौन से subjects लें ? 


आप सब को पता ही है कि 10वीं कक्षा तक तो पढ़ाई normal ही चलती है । सबको एक जैसे ही subjects पढ़ाये जाते हैं और यहाँ तक हमको कोई मुश्किल नहीं आती  । मगर 10वीं कक्षा पास करते ही हम बहुत मुश्किल में पड़ जाते हैं कि 11वीं में कौन से subjects लें और क्या कोई course करें जैसे कि ITI, Diploma आदि । 


हमारे मन में बहुत विचार आते हैं कि क्या हम यह कर पाएंगे ? क्या इसका कोई आगे चलकर benefits होगा या नहीं आदि । इसके इलावा हमारे दोस्त, रिश्तेदार, और घर वाले भी अलग - अलग subjects या courses लेने के बारे में कहते हैं तो हम और ज्यादा confuse हो जाते हैं । हमारे लिए यह जानना बहुत जरूरी है के 10वीं के बाद कौन से subject लें ।

हर course और subjects की अपनी - अपनी विशेषता है । इनका कोई न कोई तो benefits जरूर होता है अगर हम अच्छी तरह से करें तो ।

इसके इलावा हमें अपने intrest के हिसाब से courses या subjects choose करने चाहिए । हमें कभी भी किसी के पीछे लग कर कोई subject choose नहीं करना चाहिए । अगर कोई ज्यादा होशियार तो वह थोड़े hard subject choose करेगा और कोई पढ़ाई में थोड़ा कमज़ोर है तो आसान से subject choose करेगा । हमें खुद में देखना है कि हम क्या कर सकते हैं या नहीं । अगर हम किसी के पीछे लग कर कोई subject ले लेते हैं और हमारा उसमें interest न हो तो हम पढाई में बोर होने लगते हैं और हमारा मन पढ़ाई छोड़ने को करता है और कुछ लोग बीच में ही पढ़ाई छोड़ देते हैं जो कि बहुत बड़ी गलती करते हैं ।

इस लिए हमें अपने interest के साथ subject लेने चाहिए 

अगर आपको फिर भी पता नहीं है कि 10th के बाद कौन से subject के क्या - क्या फायदे हैं तो आप नीचे जरूर पढ़ें । इससे आपको 10वीं के बाद कौन से subject लें और कौन सा course करें आदि के बारे में पता चल जाएगा और आपको अपना फैसला लेने में आसानी होगी ।


10वीं के बाद क्या करें ? 10th के बाद कौन से सब्जेक्ट लें ?

10वीं पास करने के बाद आपको 3 subjects में कोई एक choose करना होता है :-

 1). Arts

 2). Commerce

 3). Science

बहुत सारे लोगों का यह सोचना है कि Arts में कोई फायदा नहीं नहीं है यह सिर्फ कमज़ोर students ही लेते हैं और जिनके marks कम होते हैं जो कि बहुत गलत सोच है । Arts के भी बहुत फायदे होते हैं जो नीचे लिखे हैं :-

Arts के benefits (फायदे) :-

Arts subject लेने के बाद अगर हम उसे अच्छी तरह पढ़ते हैं तो हम आगे चलकर Politics, Civil Services, Social works, Law, Hindi - Sanskrit professor आदि बन सकते हैं ।

बहुत सारे विद्यार्थी politics में जाने के लिए, social workers जैसे पुलिस कांस्टेबल, वकील आदि बनने के लिए Arts को चुनते हैं ।

Arts में कौन से subjects होते हैं :-

 अगर हम arts stream को चुनते हैं तो हमें यह भी पता होना चाहिए कि arts में कौन से subject होते हैं । 


 Arts में नीचे लिखे subjects होते हैं :-

1). इंग्लिश :- इंग्लिश में आपको literature, grammar आदि हैं जिनसे हम अपनी english improve के सकते हैं ।

2). हिस्ट्री :- हिस्टरी में इतिहास के बारे में बहुत अच्छी जानकारी दी जाती है । 

3). भूगोल (geography) : - इसमें हमारी धरती के बारे में जानकारी मिलेगी ।

4). psychology (मनोविज्ञान) :- इसमें हमें इंसान के दिमाग के बारे में बहुत सारे रोचक तथ्य जानने को मिलते है ।

5). पोलिटिक्स साइंस :- इसमें हमारे देश की पोलिटिक्स के बारे में बताया जाता है और जो विद्यार्थी पॉलिटिक्स में जाना चाहता है उसके लिए बहुत जरूर है ।

6). इकोनॉमिक्स :- इसमें हमारे देश की आर्थिक दशा के बारे में ज्यादा जानकारी मिलेगी ।

7). संस्कृत :- अगर आप संस्कृत सीखना चाहते हैं तो इस सब्जेक्ट को ले सकते हैं ।

 इसके इलावा समाज विज्ञान, हिंदी, और पंजाब बोर्ड में पंजाबी, आदि subject होते हैं । पर सभी स्कूल में यह सभी subject नहीं होते । इनमे से कुछ subject हो सकते हैं । आप अपनी मरज़ी से उपलब्ध subjects में से कोई भी ले सकते हैं । लेकिन english subject तो जनरल होता है और सबको लेना होता है ।


Commerce क्यों लें और commerce के benefits :-


Arts के बाद आता है commerce । कॉमर्स को arts से थोड़ा ज्यादा value दी जाती है । कॉमर्स के लिए आपके 60% तक marks होने चाहिए । अगर आप बैंकिंग या कंप्यूटर में इंटरेस्ट रखते हैं तो यह subject लेना चाहिए । 

Commerce में कौन से subject होते हैं :-

कॉमर्स में 

1). एकाउंटेंसी जैसे कि हिसाब-किताब बैंक में पैसे जमा करना आदि, 

2). बिज़नेस स्टडी 

3). इकोनॉमिक्स

4). मैथेमैटिक्स

5). इंग्लिश


Arts और commerce के बाद science का subject आता है । इसे बहुत ज्यादा इम्पोर्टेंस दी जाती है । यह काफी हार्ड सब्जेक्ट है और इसको सिर्फ इंटेलीजेंट स्टूडेंट ही लेते है ।

 

science में कौन से सब्जेक्ट होते हैं और science stream के फायदे :-

साइंस को भागों में बांटा गया है - मेडिकल और नॉन मेडिकल

जो डॉक्टर बनना चाहते हैं वह मेडिकल लेते हैं और जो इंजीनियरिंग में अपना करियर बनाना चाहते हैं वह नॉन-मेडिकल चुनते हैं ।


साइंस में कौन से सब्जेक्ट्स होते हैं :-


1). फिजिक्स :- इसमें पदार्थ गति और ऊर्जा के बारे में पढ़ाया जाता है ।

2). केमिस्ट्री :- इसमें रसायन विज्ञान के बारे में पढ़ाया जाता है ।

3). मैथेमेटिक्स :- इसमें हिसाब-किताब सिखाया जाता है जो आगे चल के बहुत काम आता है ।

4). बायोलॉजी :- इसमें जीव विज्ञान के बारे में पढ़ाया जाता है । 

5). कंप्यूटर साइंस :- इसमें कंप्यूटर के बारे में जानकारी दी जाती है जैसे कि यह काम कैसे करता है, hardware-software के बारे में बताया जाता है ।


इसके इलावा अगर आप 10वीं के बाद कोई कोर्स करना चाहते हैं तो आप पॉलीटेक्निक डिप्लोमा कर सकते हैं । 

 यह कोर्स करने के बाद स्टूडेंट सुपरवाइजर या जूनियर इंजीनियर की जॉब कर सकता है ।

जैसे कि :- 

एग्रीकल्चर इंजीनियर

इलेक्ट्रिकल इंजीनियर

कैमिकल इंजीनियर

कंप्यूटर साइंस इंजीनियर

इलेक्ट्रॉनिक इंजीनियर

इंडस्ट्रियल इंजीनियर

मैकेनिकल इंजीनियर

सिविल इंजीनियर

बिज़नेस एडमिनिस्ट्रेशन

बायो-टेक्नोलॉजी


इस डिप्लोमा में आप सुपरवाइजर या जूनियर इंजीनियर बन सकते हैं जिसमें सैलरी 10,000 से 15,000 तक हो सकती है । शुरुआत में 8-9 हज़ार भी हो सकती है ।


अगर आप पॉलीटेक्निक डिप्लोमा नहीं करना चाहते तो ITI (Industrial Training Institute) कोर्स भी कर सकते हैं । जिसमें आप नीचे दिए फील्ड में काम कर सकते हैं :-

एनीमेशन

ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री

कंप्यूटर हार्डवेयर

साइबर law

डेटा एंट्री

इलेक्ट्रीशियन

फायर एंड सेफ्टी

हेयर डिजाइनिंग

जेवेलरी डिजाइनिंग

रेडियो - tv मकैनिक

ट्रेक्टर मैकेनिक

वेल्डिंग

इन फील्ड में में सैलरी 20,000 से 30,000 हो सकती है ।


अब आपके पास इतने सारे विकल्प हैं आप इनमें से ही कोई choose कर सकते हैं और अपनी लाइफ सेट कर सकते है । मैं आशा करता हूँ के आपको समझ आ गया होगा कि 10वीं के बाद क्या करना चाहिए और 10वीं के बाद कौन से सब्जेक्ट लेने चाहिए ? बस आपका जिसमें इंटरेस्ट है वह सब्जेक्ट हो चुनिए । क्यों कि वह करो जो दिल कहे ।



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ